सबरीमला के निकट महिला पत्रकारों को रोका, प्रदर्शनकारियों ने वाहनों पर किया हमला

0
4553
Reading Time: < 1 minute

निलक्कल (केरल), 17 अक्टूबर (भाषा) सबरीमला में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश की इजाजत देने के उच्चतम न्यायालय के फैसले का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों के गुस्से का सामना कुछ महिला पत्रकारों को करना पड़ा। बुधवार को उनके वाहनों पर भी हमले किए गए।
दो राष्ट्रीय टीवी चैनल की महिला संवाददाता समाचार कवरेज के लिए पाम्बा जा रही थीं, उनकी गाड़ी को हिंसक भीड़ ने रास्ते में रोक दिया। भीड़ पत्रकार के वाहनों को निशाना बनाते हुए और नारे लगाते हुए दिख रही थी।
पुरुषों के एक समूह ने महिला पत्रकारों को जबरन गाड़ी से बाहर निकलने को मजबूर किया। यह समूह सबरीमला में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश के उच्चतम न्यायालय के फैसले का विरोध कर रहा है। पहाड़ पर स्थित यह प्रसिद्ध मंदिर भगवान अय्यप्पा का है। पुलिस ने बीचबचाव करके पत्रकारों को सुरक्षित बाहर निकाला।
वहीं एक अन्य घटना में अय्यप्पा मंदिर में प्रवेश के लिए एक स्थान से सरकारी बस में सवार हुई अंग्रेजी भाषा की ऑनलाइन मीडिया संगठन की महिला पत्रकार को बस से उतरने को कहा गया। मंदिर में प्रवेश के लिए यह स्थान उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद पहली बार बुधवार को खोला गया।
निलक्कल में एक तरह से भीड़ ने कब्जा कर लिया था और सरकारी केएसआरटीसी की बस सहित पाम्बा जा रहे अन्य वाहनों पर पत्थर भी फेंके। पुलिस के वाहनों पर भी पत्थर फेंके गए।
यहां तैनात पुलिस कर्मियों के मुकाबले प्रदर्शनकारियों की संख्या लगातार बढ़ती गई।

LEAVE A REPLY