CM assures payment of pending dues to sugarcane farmers/ शुगर मिल डोईवाला के पेराई सत्र का विधिवत शुभारम्भ किया मुख्यमंत्री ने

0
4251
Reading Time: 2 minutes

Dehradun (DIPR)-Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat has said that the pending payments of sugarcane farmers will be made soon. He further said that the state government giving top priority to the interests of the farmers will work to give sugar mills on PPP mode for better management and also to fully safeguard the interest of its’ employees. The process to install Ethanol plants in Kiccha, Doiwala, Bazpur and Nadehi sugar mills are underway. Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat formally inaugurated the sugarcane crushing season at Doiwala sugar mills on Thursday.

It is to be mentioned that several programmes are being undertaken as per Sugarcane Development Project to increase the sugarcane farming areas under Doiwala sugar mill.  As part of it, in the secured sugarcane area of the mill in the past three to four years, better quality of sugarcane having highest sugar contents are being sown. As a result there has been an increase of 57 per cent in the sowing of high yielding varieties of sugarcane in the area. These higher yielding varieties are      COS&88230] CO&0238] CO&0239  and COH-1650. There is a target to increase the sugarcane area of early varieties by 70 per cent.

In the past crushing season, from the secured catchment area of Doiwala sugar mill of Doiwala, Dehradun , Haridwar, Roorkee and Poanta Sahib, a total of 29.56 lakh quintal of sugarcane was procured. From the crushing, the mill getting 9.40 per cent high pitch sugar, produced 2,78,405 quintal sugar. In the past crushing season, the farmers were to be paid a total of Rs 92.92 crore for their sugarcane, out of which, the mill out of its own sources had paid Rs 46.86 crore while a sum of Rs.27.28 crore received from state government as financial help was also paid to the farmers. The mill has already paid Rs 74.14 crore to the farmers which is 80 per cent of the total due to the farmers.

The Cane Commissioner taking into consideration the requirement and availability of the crushing season 2018-19, working out the total secured sugarcane area of the mill has allotted 51 external procurement centres. Apart from these three procurement centres will oversee procurement from Poanta Sahib area.

The company has set a target of 32 lakh quintal of sugarcane for crushing with 9.50 per cent sugar pitch for the crushing season 2018-19. To improve the economic condition of the mill, the process to install an Ethanol plant is underway for which a Detailed Project Report (DPR) will be given by the National Federation of Co-operative Sugar Factories Limited within a week. Senior officers of the Sugarcane Development and Sugar industry, Officer and employees of Doiwala sugar mill were present on the occasion .

देहरादून (सू.ब्यूरो)-मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि गन्ना किसानों का बकाया भुगतान जल्द से जल्द पूरा किया जाएगा। राज्य सरकार किसानों के हित को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए कुशल प्रबन्धन हेतु चीनी मिलों को पीपीपी मोड पर संचालित करने की दिशा में कार्य किया जाएगा तथा कार्मिकों के हितो को पूर्णतः सुरक्षित रखा जाएगा। राज्य की किच्छा, डोईवाला, बाजपुर व नादेही चीनी मिलों में एथाॅनोल प्लान्ट लगाए जाने की कार्यवाही गतिमान है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरूवार को शुगर मिल डोईवाला के पेराई सत्र का विधिवत शुभारम्भ किया।

ज्ञातव्य है कि डोईवाला शुगर मिल द्वारा गन्ने की अधिकाधिक बुवाई हेतु गन्ना विकास कार्ययोजना के अन्तर्गत अनेक योजनायें चलायी जा रही हैं। जिसमें मुख्य रूप से चीनी की उच्चतम रिकवरी की प्राप्ति हेतु गत् 3-4 वर्षो में मिल के सुरक्षित गन्ना क्षेत्रफल में अधिक चीनी पर्ते वाली गन्ने की उन्नत किस्मों की अधिकाधिक बुवाई करायी गई है । जिसके परिणामस्वरूप वर्ष 2018-19 में 57 प्रतिशत क्षेत्रफल में उन्नत प्रजाति के गन्ने का विस्तार हुआ है। गन्ने की उच्च पर्ता वाली प्रजातियों में मुख्य रूप से COS&88230] CO&0238] CO&0239   तथा  COH&160 की बुवाई करायी जा रही है। आगामी पेराई सत्र में शीघ्र प्रजाति के गन्ना क्षेत्रफल में 70 प्रतिशत तक वृद्वि किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
गत् पेराई सत्र में डोईवाला शुगर मिल को चीनी मिल के सुरक्षित गन्ना क्षेत्र डोईवाला, देहरादून तथा हरिद्वार, रुड़की एवं पौंटा साहिब आदि क्षेत्रों से 29.56 लाख कुन्टल गन्ने की आपूर्ति हुई। जिसकी पेराई कर मिल द्वारा 9.40 प्रतिशत चीनी पर्ता प्राप्त करते हुए। कुल 2,78,405 कुन्टल चीनी का निर्माण किया गया। गत् सत्र में कृषकों को कुल रु0 92.92 करोड़ गन्ना मूल्य की देय तथा जिसके सापेक्ष मिल द्वारा अभी तक अपने स्रोतों से रु0 46.86 करोड़ तथा शासन से प्राप्त वित्तीय सहायता से रु0 27.28 करोड़ का भुगतान किया गया है। इस प्रकार कुल देय गन्ना मूल्य के सापेक्ष मिल द्वारा रु0 74.14 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है जो कि कुल देय भुगतान का 80 प्रतिशत है।
 पेराई सत्र 2018-19 हेतु गन्ने की आवश्यकता तथा उपलब्धता के दृष्टिगत् गन्ना आयुक्त द्वारा मिल के सुरक्षित गन्ना क्षेत्रफल का निर्धारण करते हुए मिल को 51 बाहृय क्रय केन्द्र आवंटित किये हैं। उक्त के अतिरिक्त पौंटा साहिब क्षेत्र के 3 क्रय केन्दों से भी गन्ने की आपूर्ति करायी जायेगी। पेराई सत्र 2018-19 के लिए कम्पनी द्वारा 32 लाख कुन्टल गन्ने की पेराई एवं 9.50 प्रतिशत चीनी पर्ता प्राप्त किये जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। चीनी मिल की आर्थिक स्थिति में सुधार लाये जाने के उद्धेश्य से मिल में ऐथेनाॅल प्लान्ट स्थापित कराये जाने की कार्यवाही गतिमान है, जिसके लिए  National Federation of Co-operative Sugar Factories Limited  से एक सप्ताह के भीतर DPR  प्राप्त हो जायेगी।
इस अवसर पर गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग विभाग के वरिष्ठ अधिकारी व डोईवाला शुगर मिल के अधिकारी व कार्मिक उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY