ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाईन निर्माण से लोगों की वर्षों पुरानी मांग पूरीः मुख्यमंत्री

0
2327
देहरादून  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार को मुनि की रेती ऋषिकेश में लोक निर्माण विभाग द्वारा निर्माणाधीन जानकी सेतु, रेल विकास निगम लिमिटेड द्वारा ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन परियोजना एवं नमामि गंगे योजना के अंतर्गत किए जा रहे कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया।
सर्वप्रथम मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मुनि की रेती ऋषिकेश में बनाए जा रहे जानकी झूलापुल का निरीक्षण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जानकी झूलापुल का निर्माण समयबद्धता से किया जाए। उन्होंने कहा कि वर्ष 2021 में हरिद्वार में होने वाले कुम्भ से पूर्व इस पुल का निर्माण कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि इस पुल के निर्माण से 2021 में होने वाले कुंभ मेले में बहुत सहायता मिलेगी। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों ने बताया कि इस झूलापुल का निर्माण कार्य निर्धारित समय में पूर्ण कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जानकी सेतु का निर्माण कार्य प्रारंभ हो गया है। इस झूलापुल की चैड़ाई भी बढ़ाई गई है। इस पुल का निर्माण कार्य लगभग एक वर्ष में पूर्ण होगा।
  •  ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन के निर्माण से पर्वतीय क्षेत्रों के विकास की राह भी होगी प्रशस्तः मुख्यमंत्री
  • जानकी झूलापुल का निर्माण समयबद्धता से किया जाएः मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाईन का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाईन निर्माण से लोगों की वर्षों पुरानी मांग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरा करने का जो संकल्प लिया है वह निश्चित रूप से पूरा होगा। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग के बीच रेल लाईन का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है, जबकि चारधाम सम्पर्क के फाइनल लोकेशन सर्वे का कार्य प्रगति पर है। इससे राज्य में पर्यटकों व तीर्थ यात्रियों का आवागमन बढ़ने के साथ ही उन्हें सुविधा भी होगी। ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन के निर्माण से पर्वतीय क्षेत्रों के विकास की राह भी प्रशस्त होगी। इस योजना के पूर्ण होने से उत्तराखण्ड के पर्यटन में बहुत बदलाव आएगा।
मुख्यमंत्री ने नमामि गंगे प्रोजेक्ट के अन्तर्गत ऋषिकेश इन्टरसेप्शन एण्ड डायवर्जन एवं एस0टी0पी0 योजना का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कार्य की प्रगति पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इस सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के निर्माण से शहर की बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण सीवेज समस्याओं से निजात मिलेगी। इस अवसर पर बताया गया कि लक्कड़ घाट पर 26 एमएलडी क्षमता के एसटीपी प्लांट के कार्यो की प्रगति 25 है, जिसके कार्य माह अगस्त 2019 में पूर्ण हो जाएंगे। राइजिंग मेन का कार्य भी प्रगति पर है, 1.5 किमी में से 600 मीटर राइजिंग मेन बिछाई जा चुकी है। 13.5 किमी लंबी ग्रेविटी सीवर में से 200 मीटर लाइन बिछाई जा चुकी है। सीवेज पंपिंग स्टेशन का कार्य माह अगस्त 2019 तक पूर्ण कर लिया जाएगा।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, मेयर ऋषिकेश श्रीमती अनिता ममगांई, मुख्य सचिव उत्पल कुमार, सचिव अमित नेगी, शैलेश बगोली एवं सम्बन्धित विभागों के उच्चाधिकारी उपस्थित थे। (सू.ब्यूरो)