असम को तेल और प्राकृतिक गैस हब के रूप में परिवर्तित किया जाएगाः प्रधानमंत्री

0
2199

New Delhi (PIB)-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अरुणाचल, असम और त्रिपुरा की अपनी यात्रा के क्रम में गुवाहाटी पहुंचे। उन्होंने पूर्वोत्तर गैस ग्रिड का शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने राज्य की कई अन्य विकास परियोजनाओं का भी अनावरण किया।

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि आज पूर्वोत्तर के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा जा रहा है। इस क्षेत्र का तेज विकास हमारी सरकार की प्राथमिकता रही है। असम विकास के मार्ग पर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर के प्रति हमारा समर्पण बजट में पूर्वोत्तर के लिए किए गए आबंटन से सिद्ध होता है। इसे 21 प्रतिशत बढ़ाया गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार पूर्वोत्तर राज्यों के सर्वांगींण विकास के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने लोगों को भरोसा देते हुए कहा कि उनकी सरकार पूर्वोत्तर राज्यों की संस्कृति, संसाधनों और भाषाओं को सुरक्षा प्रदान करेगी। नागरिकता कानून विधेयक के बारे में प्रधानमंत्री ने लोगों से आग्रह किया कि उन्हें अफवाहों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। 36 वर्ष बीतने के बाद भी असम समझौते को लागू नहीं किया गया है। केवल नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ही इसे पूरा करेगी। प्रधानमंत्री ने राजनीतिक पार्टियों से आग्रह किया कि वे राजनीतिक लाभ और वोट बैंक के लिए असम के लोगों की भावनाओं से खेलना बंद करें। उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया कि नागरिकता कानून से पूर्वोत्तर के राज्यों को हानि नहीं पहुंचेगी। हम असम समझौते को लागू करने की आपकी मांग को पूरा करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने भ्रष्टाचार के बारे में कहा कि चौकीदार भ्रष्ट लोगों पर कार्रवाई कर रहा है। पहले की सरकारों में भ्रष्टाचार को सामान्य गतिविधि माना जाता था। परंतु हम समाज के इस खतरे को जड़ से खत्म कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने पूर्वोत्तर गैस-ग्रिड का शिलान्यास किया। इस ग्रिड से पूरे क्षेत्र में प्राकृतिक गैस की उपलब्धता सुनिश्चित होगी और औद्योगिक विकास को प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने तिनसुकिया में होलांग मॉड्यूलर गैस प्रसंस्करण संयंत्र का उद्घाटन किया जो असम के कुल उत्पादित गैस के 15 प्रतिशत की आपूर्ति करेगा। प्रधानमंत्री ने उत्तर गुवाहाटी में स्टोरेज वैसेल की एलपीजी क्षमता वृद्धि का भी उद्घाटन किया।

इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने नुमालीगढ़ में एनआरएल बायो-रिफाइनरी तथा 729 किलोमीटर लंबी बरौनी-गुवाहाटी गैस पाइप लाइन का शिलान्यास किया। यह पाइप लाइन बिहार, पश्चिम बंगाल, सिक्किम और असम से होकर गुजरेगी।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पूरे देश में 12 बायो-रिफाइनरी बनाए जाएंगे। इनमें नुमालीगढ़ सबसे बड़ी बायो-रिफाइनरी होगी। इन सुविधाओं से असम एक तेल और प्राकृतिक गैस हब के रूप में परिवर्तित हो जाएगा। इससे देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि सरकार 10 प्रतिशत तक इथेनॉल मिलाने की योजना पर काम कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कामरुप, काचेर, हाइलाकांडी और करीमगंज जिलों में नगर गैस वितरण नेटवर्क का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि 2014 में 25 लाख पीएनजी कनेक्शन थे, जो 4 वर्षों में बढ़कर 46 लाख हो गए हैं। इस अवधि के दौरान सीएनजी स्टेशनों की संख्या 950 से बढ़कर 1500 हो गई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने ब्रह्मपुत्र नदी पर छः लेन वाले पुल की आधारशिला रखी। उन्होंने कहा कि आज से ब्रह्मपुत्र पर छः लेन वाले राजमार्ग का कार्य शुरू हो रहा है। इससे नदी के दोनों तटों की यात्रा अवधि 1.30 घंटे से कम होकर 15 मिनट रह जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उन्हें इस बात पर गर्व है कि उनकी सरकार ने गोपीनाथ बोरदोलोई और भूपेन हजारिका को भारत रत्न प्रदान किया है। उन्होंने कहा कि भूपेन हजारिका इस पुरस्कार को प्राप्त करने के लिए जीवित नहीं थे। परंतु यह पहले नहीं हुआ क्योंकि भारत रत्न कुछ लोगों के लिए सुरक्षित कर दिया जाता है जब वो जन्म लेते हैं। ऐसे लोगों को सम्मानित करने में दशकों लग जाते हैं जिन्होंने राष्ट्र को प्रतिष्ठा प्रदान करने के लिए अपना जीवन व्यतीत किया है।