मुख्यमंत्री ने बतायी प्रदेश में वाटर काॅरपस बनाये जाने की जरूरत

4215
देहरादून मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने वैज्ञानिकों से भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए जल संवर्द्धन के प्रति विशेष ध्यान देने को कहा है। उन्होंने कहा कि वर्षा जल हमारी भविष्य की जरूरतों को पूरा करने में कैसे मददगार हो इस पर भी वैज्ञानिकों को चिन्तन करना होगा। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में वाटर काॅरपस बनाये जाने की भी बात कही।
मंगलवार को विज्ञान धाम झाझरा में तीन दिवसीय 13वीं उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस का शुभारम्भ करते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने विज्ञान कांग्रेस में आये वैज्ञानिकों एवं शोधार्थियों से देश व प्रदेश हित में जैव विविधता के व्यापक सदुपयोग में भी सहयोगी बनने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां भी वैज्ञानिक एकत्र होते हैं उसका लाभ अवश्य मिलता है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इस सम्मेलन का भी राज्य को लाभ मिलेगा।
  • भविष्य में होने वाली पानी की कमी की समस्या के समाधान के लिये वैज्ञानिकों को भी करना होगा चिन्तन। 
  • विज्ञान एवं शोध का परिणाम राज्य हित में हो। 
  • प्रदेश में शीघ्र स्थापित होगी सांइस सिटी। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में हमारे सामने पर्यावरण एवं जैव विविधता को बचाये रखने की चुनौती है। इस विज्ञान कांगे्रस में आये वैज्ञानिक इस चुनौती का सामना करने को भी मददगार बनें। उन्होंने कहा कि हमारे सामने भविष्य में पानी की जरूरतों को पूरा करने की भी चुनौती है। इसके लिये वर्षा जल संग्रहण की दिशा में हमें सोचना होगा। प्रदेश में पिथौरागढ़, पौड़ी के साथ ही देहरादून में जलाशय बनाये जा रहे है। उन्होंने कहा कि नदियों के प्रवाह को बनाये रखना भी हमारे लिये चुनौती है। इस चुनौती का सामना हम वर्षा जल संग्रहण के साथ ही व्यापक स्तर पर जलाशयों के निर्माण से कर सकते हैं। इससे हम ग्रेविटी आधारित पेयजल की आपूर्ति करने के साथ ही प्राकृतिक जल श्रोतों को रिचार्ज करने में भी सफल हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि भविष्य की जल जरूरतों को पूरा करने के लिये वाटर काॅरपस बनाया जाना भी समय की जरूरत है। ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव हमारे ग्लेशियरों पर भी पड रहा है। ग्लेशियरों के पिघलने से नदियों में पानी की कमी हो रही है। इसलिये भविष्य की जरूरतों के लिये हमें वर्षा जल संग्रहण, नदियों के पुनर्जीवीकरण तथा प्राकृतिक जल श्रोतों के संवर्द्धन की दिशा में कारगर प्रयास करने होंगे। वैज्ञानिकों को इस दिशा में भी सोचना होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विज्ञान का कार्य भ्रम को दूर करना है। कुछ लोगों का कहना है कि बांध से पानी के सोर्स पर प्रभाव पड रहा है। इस प्रकार के संसयों को भी वैज्ञानिकों को दूर करना होगा। हमारे युवा वैज्ञानिकों को भी इस दिशा में चिन्तन करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने प्रदेश में जल ही जीवन अभियान के तहत जन सहभागिता के कार्यक्रम संचालित किये है। टाॅयलेट में पानी का उपयोग कम हो इसके लिये भी नई पहल की गई है। पानी की बचत की दिशा में हमें अभी से पहल करनी होगी क्योंकि पानी के बिना जीवन की कल्पना नही की जा सकती है। यह हमारी ज्वलंत समस्या है। इस दिशा में भी हमें पहल करनी होगी।
इससे पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया तथा विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले वैज्ञानिक डाॅ.दिलीप कुमार उप्रेती, वैज्ञानिक प्रो. प्रीति गंगोला जोशी के साथ ही डाॅ.ममता सिंह को बेस्ट सांइस टीचर का एवार्ड प्रदान किया। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने विज्ञानधाम के परिसर तथा प्रस्तावित सांइस सिटी के स्थल का भी निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि सांइस सिटी के निर्माण के संबंध में उनकी केन्द्रीय मंत्री श्री महेश शर्मा से भी वार्ता हुयी है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने 13वीं उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस की अवस्ट्रैक्ट बुक-2019 तथा उत्तराखण्ड बायोटैक्नोलाॅजी बुक-2018 का भी विमोचन किया।
कार्यक्रम को क्षेत्रीय विधायक सहदेव पुण्डीर, कुलपति जी.बी.पंत कृषि एवं प्रौद्यौगिकी विश्व विद्यालय प्रो. तेज प्रताप, जी.बी.पंत राष्ट्रीय हिमालय पर्यावरण एवं सतत विकास संस्थान कोसी कट्टारमल अल्मोडा के निदेशक डाॅ. रणवीर सिंह रावल, निदेशक एम्स जोधपुर डाॅ. अरूण मिश्रा, निदेशक वाडिया हिमालयन भू-विज्ञान संस्थान डाॅ. कलाचन्द सिंह ने भी शोध के क्षेत्र में हो रहे प्रयासों की जानकारी दी।
यू-काॅस्ट के महानिदेशक एवं 13वें उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांगे्रस के चेयरमैन डाॅ. राजेन्द्र डोभाल ने प्रति वर्ष आयोजित होने वाली इस महत्वपूर्ण विज्ञान कांग्रेस के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि इसमें विभिन्न विश्व विद्यालयों के लगभग 500 छात्रों के साथ ही देश के विभिन्न संस्थाओं के वैज्ञानिक एवं शोद्यार्थी भी प्रतिभाग कर रहे है।