आज फिर मेरा देश रो रहा है……दीपिका जोशी

0
7560
Reading Time: 1 minute

आज फिर मेरा देश रो रहा है ,

आज फिर मेरा भारत रो रहा है ,

जातिवाद के अन्धकार में ,

ऐ मानव तू कायर क्यों हो रहा है ।

एकजुटता रख तू  अन्धकार में क्यो जा रहा  है ,

आधुनिक भारत में सामाजिक परिवर्तन क्यों नहीं ला रहा  है ।

जाति जाति में भेदभाव क्यों ला रहा है ,

इंसान है इंसानियत क्यों नहीं ला रहा है ।

भ्रष्टाचार, अत्याचार और भेदभाव से पहले ही मेरा भारत रो रहा है ,

जातिवाद के अन्धकार में ,

ऐ मानव तू कायर क्यों हो रहा है ।

एक जुटता दिखा जब औरत का सम्मान खो रहा है ,

एक जुटता दिखा जब एक परिवार भूख  से मर रहा है ।

एक जुटता दिखा जब सड़क पे  घायल पड़ा इंसान मदद की गुहार कर रहा है ,

एक जुटता दिखा जब कोई बुज़ुर्ग अपने ही घर से निकाला जा रहा है  ।

भूख , शोषण और बेवक़्त त्रासदी से पहले ही मेरा भारत रो रहा है ,

जातिवाद के अन्धकार में ,

ऐ मानव तू कायर क्यों हो रहा है ।

By: Deepika Joshi

Himgiri Zee University, Dehradun

Assisstant Professor (CS/IT Department)

LEAVE A REPLY