‘‘मातृ दिवस‘‘ पर मुख्यमंत्री का सभी माताओं के नाम संदेश

0
4468
Reading Time: 1 minute
देहरादून 12 मई, 2018-‘‘मातृ दिवस‘‘ पर आप सभी माताओं को मेरी तरफ से सादर नमन और ढेर सारी शुभकामनायें, आप सभी पूरी दुनिया के लिए सामाजिक और पारवारिक रिश्तों की महत्वपूर्ण धुरी है और आपके बिना ये पूरा का पूरा  संसार अधूरा है।
कहते है जननी और जन्मभूमि दोनों स्वर्ग से भी महान है और मैं अपने आप को बहुत भाग्यशाली समझता हूँ कि  इस जीवन में आपके प्यार एवं आशीर्वाद से मुझे दोनों की सेवा करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है, मैंने जिस आदर भाव से अपनी माँ की सेवा की उसी भाव से मैं अपनी माटी अपनी जन्मभूमि उत्तराखंड की भी सेवा करने के लिए प्रयासरत हूँ, मैं पूर्ण ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ अपने इस प्रदेश के लिए काम कर रहा हूँ।
किसी भी सरकार का पहला साल अपनी उपलब्धियों को गिनाने के लिए नहीं बल्कि एक मजबूत नींव रखने के लिए होता है लेकिन पिछले डेढ़ साल में  हमने सिर्फ विकास की नींव ही नहीं रखी बल्कि उसके साथ-साथ  बहुत सारे बड़े-बड़े कार्य भी किये है।
सरकार का पैसा वास्तव में जनता की मेहनत की कमाई का पैसा होता है जिसको जनता के हित के लिए ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए इसलिए सबसे पहले मैंने बड़े-बड़े होटलों में होने वाले मुख्यमंत्री के सारे कार्यकर्मों को जनता मिलन सभागार में करवाकर हर महीनें के लाखों रूपये की फिजूलखर्ची को रोका ताकि इस राशि का उपयोग जनता की भलाई करने में काम आ सके।
हमारी सरकार ने अपने इस प्रदेश को लूट खसोट से बचाने के लिए शराब और खनन के कारोबार को पूरी तरह ऑनलाइन करवा दिया साथ ही साथ ट्रांसफर एक्ट लागू कर प्रदेश की जनता को लाखों रुपये लेकर ट्रांसफर करवाने वाले दलालों से भी मुक्ति दिला दी। इसी तरह छात्रों को मिलने वाली छात्रवृत्ति एवं पेन्शन को आधार से लिंक करवाने से फर्जीवाड़े पर भी लगाम लगाया।
शास्त्रों में कहा गया है ‘‘यत्र नार्यस्तु पूज्यंते….रमंते तत्र देवता‘‘ अर्थात जहाँ नारियों की पूजा होती है वहीँ पर देवताओं का वास होता है। जन्म से लेकर मृत्यु तक के जीवन में महिलाएं हमारे सामाजिक जीवन के हर पहलू का आधार है उनके बिना हम कभी  भी पूर्ण नहीं हो सकते, उनके बेहतर भविष्य के लिए हमें उनका वर्तमान संवारना होगा इसलिए बेटियों की सुरक्षा, शिक्षा, समृद्धि और उनके सशक्तिकरण के लिए हम अभी से सार्थक कदम उठा रहे है।
हमारा प्रदेश तीलू रौतेली, रामी बौराणी और गौरा देवी महान नारियों का प्रदेश है, यहाँ की महिलाओं को क्या सम्मान मिलना चाहिए मैं ये अच्छी तरह से जानता  भी हूँ और समझता भी हूँ। इसलिए हमारी सरकार ने महिलाओं को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने के लिए देवभोग प्रसाद योजना शुरू की, बद्रीनाथ के 3 महिला समूहों ने सिर्फ 2 महीनों में 19 लाख रूपये का प्रसाद बेचा और 9 लाख रूपये का शुद्ध मुनाफा कमाया। ग्रोथ सेंटरों के माध्यम से महिलाओं को एल०ई०डी० उपकरण बनाने की ट्रेनिंग दी जा रही है, हम अपने प्रदेश की एकल महिलाओं को मात्र 1 प्रतिशत ब्याज दर पर 1 लाख रूपये तक का कर्ज मुहैया करवा रहे हैं ताकि वो खुद का अपना व्यापार शुरू कर सके।  देहरादून और हल्द्वानी में हमने 2 महिला बैंक स्थापित किये जिनके सभी कर्मचारी सिर्फ महिलाएं है, इसके साथ- साथ नवजात बच्चियों के स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए उनको वैष्णवी हेल्थ किट मुहैया करवाई जा रही है और मेधावी बालिकाओं को प्रोत्साहित करने की लिए हमारी सरकार द्वारा लैपटॉप भी दिए जा रहे है। एकल महिलाओं के लिए हमने सखी ई-रिक्शा योजना भी चलाई है ताकि वो अपना जीवन यापन ठीक से कर सके और प्रसन्न रह सके।
मेरी माताओं और बहनों मुझ पर अपना विश्वास बनाये रखिये मैं आपको कभी निराश नहीं होने दूंगा बल्कि आपकी उम्मीदों के अनुरूप ही इस प्रदेश की सेवा करूँगा। मैं जानता हूँ मेरी कार्यप्रणाली से कुछ लोग नाराज है उनके लिए मैं यही कहना चाहूंगा की आने वाले समय में भी प्रदेश के हित के लिए मैं कठोर से कठोर कदम उठाऊंगा और कड़े से कड़े फैसले लूंगा। जिस फैसले का परिणाम जनहित में सकारात्मक होगा वो आगे कायम रहेगा और जिसका परिणाम नकारात्मक होगा वो तुरंत बदल दिया जाएगा।
अंत में आपको पुनः मातृ दिवस की ढेर सारी शुभकामनायें देते हुए आशा करता हूँ कि आप इसी तरह मुझे और मेरी सरकार को हमेशा अपना प्यार और आशीर्वाद देते रहेंगे।
धन्यवाद !
आपका
 
(त्रिवेंद्र सिंह रावत)
मुख्यमंत्री,उत्तराखंड

LEAVE A REPLY