Film Producer/Director Madhur Bhandarkar meets CM Rawat / फिल्म निर्माता/निर्देशक मधुर भण्डारकर ने भेंट की मुख्यमंत्री से

0
2543
Reading Time: 2 minutes

Dehradun(25.5.18)-Film Producer/Director Madhur Bhandarkar met the Uttarakhand Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat at CM residence on Friday. During his meeting, Bhandarkar gave many suggestions pertaining to the development of the films and promoting the culture of Uttarakhand through films. Chief Minister said that for the shooting of the films, from nature and geographical point of view, the environment of Uttarakhand has always been favourable. He said that there is no dearth of talent in Uttarakhand. With shooting of films getting a boost, the new talent in the state would also get opportunity in the field of films.

Chief Minister said that in order to encourage films in Uttarakhand, the government has given tax exemption for the shooting of the films. For all film shooting related procedures, the system of Single Window has been implemented. Getting attracted with this, many film makers from big banners are coming to state for the shooting of the films. He said that permission for Film Institute in Uttarakhand would be sought from FTII. For this, he directed the Secretary/Director General, Information and Uttarakhand Film Development Council CEO to take necessary action in this regard.

Chief Minister said that seeing the natural beauty of Uttarakhand, more and more film makers in the country are making films in Uttarakhand. From this, Uttarakhand is being recognized in the country and abroad. Chief Minister said that there is huge potential for film making and film shooting in Uttarakhand. What is required is to understand this fact in-depth. Apart from the pilgrimage places, it is also meditation centre of saints, about which information can be available by going to the remote areas of the region. He said that in future, from film making, people here would get employment in direct and indirect form, which will improve their economic condition.

देहरादून-मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में फिल्म निर्माता/निर्देशक मधुर भण्डारकर ने भेंट की। फिल्म निर्देशक मधुर भण्डारकर ने भेंट के दौरान उत्तराखण्ड में फिल्मों के विकास एवं फिल्मों के माध्यम से उत्तराखण्ड की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए ने कई सुझाव दिए।
 मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि फिल्मों की शूटिंग के लिए उत्तराखण्ड का वातावरण प्राकृतिक एवं भौगोलिक रूप से हमेशा के लिए अनुकूल है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में प्रतिभाओं की कमी नही है। उत्तराखण्ड में फिल्मों की शूटिंग को बढ़ावा मिलने से राज्य की नई प्रतिभाओं को भी फिल्मों के क्षेत्र में अवसर मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने  बताया  कि  उत्तराखण्ड में फिल्मों को बढ़ावा देने के लिए फिल्मों की शूटिंग के लिये अब शुल्क नही लिया जा रहा है। फिल्मों शूटिंग सम्बन्धित सभी प्रक्रियाओं हेतु सिंगल विंडो सिस्टम लागू किया गया है। इससे आकर्षित होकर कई बड़े बैनर की फिल्मकार राज्य में फिल्मों की शूटिंग हेतु आ रहे है। उन्होंने कहा कि एफटीआईआई से उत्तराखण्ड में फिल्म इंस्टीट्यूट के लिए परमिशन ली जायेगी। इसके लिए उन्होंने सचिव/महानिदेशक सूचना एवं उत्तराखण्ड फिल्म विकास परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को आवश्यक कार्यवाही करने को कहा है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड का नैसगिृक सौन्दर्य देखकर देश के अधिक से अधिक फिल्म निर्माता उत्तराखण्ड में फिल्मों का निर्माण कर रहे है। इससे उत्तराखण्ड की पहचान देश-विदेश में हो रही है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि उत्तराखण्ड  में फिल्मों के निर्माण व फिल्मांकन हेतु व्यापक सम्भावनायें है।  आवश्यकता है उसको गहराई में देखने की। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड देवभूमि है। यहाॅ तीर्थ स्थलों के साथ ही साधकों की तपोस्थली भी है। जिसके बारे में इस क्षेत्र के सूदूर अॅचलों में जाने से जानकारी हो सकेगी। उन्होंने कहा कि भविष्य में फिल्म निर्माण से यहाॅं के लोगों को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रुप से रोजगार मिलेगा। जिससे उनकी आर्थिकी में सुधार होगा।

LEAVE A REPLY