01 करोड़ 50 लाख पौधे लगाए जाएंगे प्रदेश में इस वर्ष

0
1481
देहरादून 12 जून, 2018-मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मंगलवार को सचिवालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि मानसून के दौरान सभी जनपदों में व्यापक स्तर पर वृक्षारोपण किया जाए। जल स्रोतों के पुनर्जीवीकरण के लिए दीर्घकालीन योजना बनाई जाए। सभी जिलाधिकारी अपने जनपद में किसी स्थान का चयन कर वृक्षारोपण, जल संरक्षण तथा संवर्द्धन के लिए 05 साल की कार्ययोजना बनायें, ताकि हर जिले में एक माॅडल तैयार हो सके।  वृक्षारोपण के लिए अधिक से अधिक जन सहयोग लिया जाए एवं विषय विशेषज्ञों की राय ली जाए। जल स्रोतों के पुनर्जीवन व व्यापक स्तर पर वृक्षारोपण के लिए जिलाधिकारी स्वयं जिम्मेदारी लें। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी देहरादून एवं अल्मोड़ा से रिस्पना एवं कोसी नदी पर होने वाले वृक्षारोपण की तैयारियों के बारे में भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि इन नदियों के पुनर्जीवीकरण के लिए अधिक से अधिक जन सहयोग लिया जाए।
  • इस वर्ष प्रदेश में लगाए जाएंगे 01 करोड़ 50 लाख पौधे।
  • वृक्षारोपण व जल संरक्षण के लिए 05 साल की कार्ययोजना बनाकर हर जिले में एक माॅडल तैयार किया जाए।
  • मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मानसून में वृक्षारोपण की तैयारियों की समीक्षा की।
वन विभाग द्वारा जानकारी दी गई कि इस वर्ष मानसून अवधि में 17560 हैक्टेयर में कुल 01 करोड़ 50 लाख पौधे लगाये जायेंगे। उत्तरकाशी में 1135 हैक्टेयर क्षेत्र में 10 लाख 55 हजार, चमोली में 1400 हैक्टेयर में 11 लाख 19 हजार, टिहरी में 1860 हैक्टेयर में 19 लाख 22 हजार, देहरादून में 1260 हैक्टेयर क्षेत्र में 10 लाख 26 हजार, पौड़ी में 2600 हैक्टेयर में 20 लाख 16 हजार, रूद्रप्रयाग में 835 हैक्टेयर में 09 लाख 81 हजार व हरिद्वार में 596 हैक्टेयर में 05 लाख 46 हजार पौधे लगाये जायेंगे। जबकि नैनीताल में 1627 हैक्टेयर में 11 लाख 68 हजार, उधमसिंह नगर में 1375 हैक्टेयर में 09 लाख 64 हजार, अल्मोडा में 1496 हैक्टेयर में 11 लाख 15 हजार, बागेश्वर में 896 हैक्टेयर मेें 07 लाख 78 हजार, पिथौरागढ में 1634 हैक्टेयर में 16 लाख 47 हजार व चंपावत में 715 हैक्टेयर में 05 लाख 62 हजार पौधे लगाये जायेंगे।
बैठक मे अपर मुख्य सचिव डाॅ.रणवीर सिंह, प्रमुख वन संरक्षक श्री जयराज, सचिव अमित नेगी, अपर सचिव श्री सविन बंसल, सहित अन्य वरष्ठि अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY