Upcoming “Mahakumbh 2021” Will Be Plastic Free-C.M. / महाकुम्भ को प्लास्टिक मुक्त बनाया जायेगा-मुख्यमंत्री

0
1872

Haridwar/Dehradun 22 July, 2018 –Uttarakhand Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat participated in “Innovation Summit “ held at Haridwar on Sunday.  The “innovation Summit” aimed at holding the coming “ Mahakumbh” at Haridwar on a grand scale was organized by Haridwar-Roorkee Development Authority in collaboration with Technomedia Private Limited. Chief Minister Mr. Trivendra Singh Rawat speaking on the occasion said that successfully organizing the “Mahakumbh” is a big challenge for the state government and it is an opportunity also for the country as well as the state. “Mahakumbh” is centre of faith only for India but for entire world. Chief Minister announced that since the earth is turning into a plastic planet, every effort will be made to make next “Mahakumbh” plastic free to save the earth. He said that the state government is taking the initiative in this regard and all those using plastic bags will be provided cloth or jute bags.

Chief Minister said that the first discussion after the formation of state government was about successfully holding the ‘Kumbh mela’. He said that the State Urban Development Minister has already initiated discussions on the subject with saints and district administration on time.

Chief Minister said that experienced officers, who had conducted Kumbh earlier, should come up with relevant plans and make available resources required for the ‘Kumbh mela’ through this summit. The government will provide those resources on priority. He said that the state government has able officers who had successfully conducted ‘Kumbh mela’ and earned a reputation for themselves at the international level. The Chief Minister also launched the (Hash) portal of Haridwar Development Authority and development portal of development department on the occasion.

 Chief Minister announced that by January 2019, the river Ganga will be freed of sewage drains from Gomukh till the boundary of the state. He said that the state government has a plan to save the stray cows on roads, injured and diseased cows and it will be implemented soon. The Chief Minister also announced to establish a joint replica of 52 “Shakti Peeths” at religious city of Haridwar.

 Uttarakhand Urban Development Minister Madan Kaushik said that coming ‘Kumbh mela’ will be made historic. The demand to have a ring road in Haridwar has been forwarded to Union Minister Nitin Gadkari. The Union Minister has agreed to the demand. He said that the state government will provide the land after acquisition to the central government by 2021. He announced that mela area will be expanded towards Bijnore road. Expert officers who had conducted ‘Kumbh melas’ in different parts of the country shared their experiences in the programme and gave suggestions to make Haridwar ‘Mahakumbh 2021’ is a better managed affairs.

हरिद्वार/देहरादून 22 जुलाई, 2018-मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को हरिद्वार में आयोजित ’’इनोवेशन समिट’’ में प्रतिभाग किया। हरिद्वार-रूड़की विकास प्राधिकरण व टैक्नोमीडिया प्राइवेट लिमिटेड की ओर से हरिद्वार में आयोजित होने वाले आगामी महाकुम्भ को भव्य रूप से आयोजित करने के उद्देश्य से इस दो दिवसीय ’’इनोवेशन समिट’’ का अयोजन किया गया है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि महाकुम्भ का सफल आयोजन शासन-प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है। यह देश और प्रदेश के लिए एक अवसर भी है। कुम्भ न केवल भारत बल्कि विश्व की आस्था का केंद्र भी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्लास्टिक गृह में परिवर्तित हो रही पृथ्वी की रक्षा के लिए आगामी महाकुम्भ को प्लास्टिक मुक्त बनाया जायेगा। इसके लिए सरकार द्वारा पहल शुरू की जा रही है। जिसमें प्लास्टिक का प्रयोग कर रहे व्यक्तियों को कपड़े या जूट का थैला उपलब्ध कराया जायेगा।
 मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार बनने के बाद सबसे पहली चर्चा कुम्भ मेला को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराने की थी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के शहरी विकास मंत्री द्वारा जिला प्रशासन और संत समाज के साथ मिलकर इस पर समय से कार्य और बातचीत भी शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुम्भ के अनुभवी अधिकारी इस समिट के माध्यम से आज जो भी प्लान और संसाधन कुम्भ की दृष्टि से आवश्यक समझते हो, उन्हें उपलब्ध करायें। इन संसाधनों को सरकार द्वारा पूरा करने की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पास योग्य अधिकारी हैं, जो जन-सहभागिता से महाकुम्भ को सम्पन्न कराकर विश्व पटल पर ख्याति अर्जित करते आये हैं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर हरिद्वार विकास प्राधिकरण के (हैश) पोर्टल तथा विकास विभाग के प्रगति पोर्टल की लाॅचिंग भी की।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जनवरी वर्ष 2019 तक प्रदेश में गौमुख से लेकर राज्य की अंतिम सीमा में गंगा को गंदे नालो से मुक्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गौ वंश को सड़कों पर आवारा, घायल तथा बीमार होने से बचाना भी सरकार का लक्ष्य है, जिसे सरकार शीघ्र प्राप्त करेगी। मुख्यमंत्री ने देवी की 52 शक्ति पीठों की एक संयुक्त प्रतिकृति का तीर्थ स्थल जनपद हरिद्वार में तैयार करने की भी घोषणा की।
शहरी विकास मंत्री श्री मदन कौशिक ने कहा कि कुम्भ मेले को ऐतिहासिक बनाया जायेगा। इसके लिए केंद्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी से भी मिलकर हरिद्वार में रिंग रोड की मांग रखी गयी।  जिसके लिए केंद्रीय मंत्री ने सहमति व्यक्त की है। वर्ष 2021 से पहले राज्य सरकार भूमि अधिग्रहण कर केन्द्र सरकार को उपलब्ध करायेगी। मेला क्षेत्र का विस्तार बिजनौर रोड की तरफ किया जायेगा।
कार्यक्रम में देश के विभिन्न कुम्भ क्षेत्रों में मेला सम्पन्न कराने वाले विशेषज्ञ अधिकारियों ने अपने अनुभाव तथा वर्ष 2021 हरिद्वार कुम्भ को और अधिक व्यवस्थित बनाने के लिए विचार भी साझा किये।

LEAVE A REPLY