टोलफ्री न0 1098 पर सूचना दे सकते हैं …….जानने के लिये क्ल्कि करें

0
2913
देहरादून, 06 अगस्त 2018, जिलाधिकारी एस.ए मुरूगेशन की अध्यक्षता में उनके कैम्प कार्यालय में बालश्रम रोकथाम हेतु गठित जिला टास्कफोर्स की बैठक आयोजित की गयी। जिलाधिकारी ने कहा कि बाल श्रम समाज के लिए एक अभिशाप है अतः इसको रोकने के लिए जुड़े हुए सभी विभाग आपसी समन्वय से प्लान बनाकर कार्य करें। उन्होंने श्रम विभाग के अधिकारियों को शिक्षा विभाग से बाल गणना के माध्यम से बच्चों का सही डेटा प्राप्त करते हुए तदनुसार बाल श्रम की रोकथाम की उचित कार्ययोजना बनाते हुए इस पर अंकुश लगाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों पर फोकस करें जो व्यवासायिक, घरेलू  तथा अन्य किसी भी  प्रकार का बालश्रम करवा रहे हैं, उन पर औचक निरीक्षण व गुप्त सूचना के आधार पर उचित संज्ञान लेते हुए कार्यवाही करें। उन्होंने समिति से कहा कि ऐसे मामले, जिसमें बाल श्रम में पकड़े गये बच्चों को उनके परिजनों को सौंपने इत्यादि पर निर्णय लेना है, उसमें जनपद की बाल कल्याण समिति की सहायता से कार्य करें। जिलाधिकारी ने कहा कि ऐसे बच्चे जो बालश्रम से आजाद करवाये गये हैं, उनके पुनर्वास, शिक्षा, मध्याहन भोजन व्यवस्था इत्यादि में शिक्षा, समाज कल्याण, पुलिस जैसे विभागों के समन्वय से कार्य करें। उन्होंने पुलिस विभाग को भी बाल श्रम व बच्चों से सम्बन्धित मामलों में जहां तक सम्भव हो सके प्राथमिकता से हर थानें में महिला पुलिस अधिकारी  अथवा मृदभाषी कुशल व्यवहार से बच्चों से सम्बन्धित  मामलों को प्राथमिकता से निपटने के निर्देश दिये। उन्होंने बच्चों से भीख  मंगवाने वाले गिरोह पर भी अंकुश लगाने के लिए प्लान के अनुसार कार्य करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कोई भी व्यक्ति यदि  14 वर्ष से कम उम्र तक के बच्चों को किसी श्रम में पाते हैं तो उसकी सूचना  www. pencil.gov.in  अथवा टोलफ्री न0 1098 पर दी जा सकती है, साथ ही श्रम करते बच्चों की वीडियो भी वेबसाईट पर अपलोड कर सकते हैं।
इस अवसर पर उप जिलाधिकारी सदर प्रत्युष सिंह,  सी.ओ सदर चन्द्रमोहन सिंह, सहायक श्रम आयुक्त रमेश चन्द्र राय, जिला प्रोबेशन अधिकारी मीना बिष्ट सहित समाज कल्याण, स्वास्थ्य, श्रम प्रवर्तन सहित सम्बन्धित अधीनस्थ कार्मिक उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY