ऑडिट विभाग की वेबसाइट का लोकार्पण वित्त मंत्री प्रकाश पंत द्वारा

0
2223
देहरादून 08 अगस्त, 2018-बुधवार को सचिवालय में राज्य सूचना विज्ञान केन्द्र के सहयोग से तैयार की गई ऑडिट विभाग की वेबसाइट का लोकार्पण वित्त मंत्री श्री प्रकाश पंत द्वारा किया गया। वेबसाइट के माध्यम से ऑडिट रिपोर्ट का डिजीटलाईजेशन पद्धति से जोड़ा गया। इससे सम्बंधित सचिव, विभागाध्यक्ष व डीडीओ ऑडिट रिपोर्ट से ऑनलाइन जुड जायेंगे। इससे कार्य में तेजी एवं और अधिक पारदर्शिता आयेगी।
इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री प्रकाश पंत ने कहा कि वेबसाइट में फील्ड से सूचनाएं एकत्र कर व उनका मूल्यांकन का भी प्राविधान किया जाए, जिससे योजना का परीक्षण भी होगा तथा विभाग की कमियों का भी पता चल सकेगा ताकि तद्ानुसार विभागीय योजनाओं के क्रियान्वयन में और अधिक सुधार होगा। उन्होंने वेबसाइट को और अधिक कारगर बनाने के लिए इससे सम्बंधित प्रशिक्षण चलाने तथा ऑडिट में गलती की स्थिति में सम्बंधित सचिव, विभागाध्यक्ष व डीडीओ के मोबाईल एवं ई-मेल में अलर्ट का प्राविधान भी रखने की अपेक्षा की ताकि गलती का समाधान समयबद्धता से किया जा सके। उन्होंने कहा कि वेबसाइट से जुडे समस्त स्तरों के अधिकारियों को सक्रिय रहना होगा तथा उन्होंने वेबसाइट में योजनाओं का भौतिक सत्यापन का भी प्राविधान रखने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि वेबसाइट को इतना सुदृढ बनाया जाय जिससे शासकीय सम्पतियों की मॉनिटरिंग भी सुनिश्चित की जा सके।
सचिव आई.टी. श्री आर.के.सुधाशु ने वेबसाइट में हेल्पडैस्क का भी प्राविधान करने के निर्देश दिये ताकि आडिट के लम्बित पैरा पर डीडीओ या विभागाध्यक्ष वेबसाइट के द्वारा आपत्तियों का समाधान कर सके। उन्होंने इस प्रक्रिया में रिस्पान्स टाईम कम से कम रखने की अपेक्षा की।
सचिव वित्त श्री अमित सिंह नेगी द्वारा वित्त मंत्री द्वारा दिये गये सुझावों को वेबसाइट में सम्मिलित करने का आश्वासन दिया। उन्होंने समय-समय पर वित्त के क्षेत्र में वित्त मंत्री द्वारा दिये गये सुझावों एवं सहयोग के प्रति आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर अपर सचिव वित्त श्री सविन बंसल, एनआईसी के उप महानिदेशक/स्टेट कोर्डिनेटर सुश्री अल्का मिश्रा, राज्य सूचना विज्ञान केन्द्र के एसआईओ/उपमहानिदेशक श्री के.नारायण, वरिष्ठ तकनीकी निदेशक श्री वी.के.तनेजा तथा श्री वी.के.शर्मा, तकनीकी निदेशक एन.एस.नेगी सहित सम्बंधित विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY