वाजपेई के निधन पर पूर्व मुख्यमंत्री एवं सांसद हरिद्वार डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने गहरा दुख किया प्रकट

0
5536
Reading Time: 1 minute
देहरादून 16 अगस्त, 2018-भारत के ओजस्वी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी के निधन पर पूर्व मुख्यमंत्री उत्तराखंड एवं सांसद हरिद्वार डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने स्वर्गीय  अटल जी को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की है। डॉ निशंक ने इस दोरान स्पर्श गंगा और हिमालय अभियान को लेकर ओमान , कतर, बहरीन  के अपने कार्यक्रम भी स्थगित कर दिए हें .
 बता दे की डॉ निशंक को राजनीति की ओर अग्रसर करने के लिए स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेई जी का विशेष योगदान रहा। उनके कहने पर ही डॉ निशंक ने राजनीति की अनेकों सीढ़ियां चढ़ी एवं सफलता अर्जित की।
अटल जी का आखरी सार्वजनिक कार्यक्रम—
22 मई सन 2007 का वह दिन जब अटल जी अपने चिरपरिचित अंदाज में बोले थे ।अपने खास शैली में उन्होंने दर्शकों को खूब हंसाया-गुदगुदाया था। यह कार्यक्रम उनके सार्वजनिक जीवन का आखरी कार्यक्रम था ।
अवसर था डॉक्टर रमेश पोखरियाल निशंक जी के कहानी संग्रह खड़े हुए प्रश्न के विमोचन का ।इंडिया इंटरनेशनल सेंटर नई दिल्ली में आयोजित इस कार्यक्रम में अटल जी ने अपने खास भाव-भंगिमाओं के साथ पूरी रौ में भाषण दिया और अपनी दो कविताएं “गीत नहीं गाता हूं” तथा “गीत नया गाता हूं” सुनाई।
अपनी व्यंग्यात्मक शैली से दर्शकों को हंसने और लोटपोट होने पर मजबूर कर दिया ।यह कार्यक्रम अटल जी की जीवन का अंतिम सार्वजनिक कार्यक्रम था। इसके बाद वह किसी भी सार्वजनिक कार्यक्रम में नहीं जा पाए ।बल्कि इस कार्यक्रम में भी मनाही के बाद भी उन्होंने हिस्सा लिया। डॉक्टर निशंक द्वारा अटल जी के  समग्र जीवन पर “भारत रत्न अटल जी ” पुस्तक भी लिखी गई. जिसका विमोचन गत वर्ष माननीय उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडू द्वारा उप राष्ट्रपति भवन में किया गया।

LEAVE A REPLY