Ahmedabad Roadshow Attracts Participation for ‘Destination Uttarakhand: Investors Summit 2018’ / ‘डेस्टिनेशन उत्तराखंड: इन्वेस्टर्स समिट 2018’ के लिए अहमदाबाद रोड शो

0
6302
Reading Time: 4 minutes

Dehradun 24 August, 2018(Info.Bureau)- The Chief Minister Shri Trivendra Singh Rawat joined the roadshow organized at Ahmedabad on Thursday. Speaking at the Roadshow, Shri Trivendra Singh Rawat said, “We are excited to have the Gujarati business community on board for ‘Destination Uttarakhand Summit 2018’. The young state has a plethora of investment opportunities for the Gujarati business community particularly in the sectors of Food Processing, automobiles, textiles & manufacturing.  We aim to provide investors with a platform to understand the state’s potential and the ease of doing business in Uttarakhand. Uttarakhand is a resource rich state, offering the Gujarati investor’s community the opportunity to diversify their businesses in the northern state.”

The Government of Uttarakhand organized a Roadshow in Ahmedabad, Gujarat in the build up to the ‘Destination Uttarakhand: Investors Summit’ scheduled from October 7-8, 2018. The state’s first ever investor summit will be organized at Dehradun and will be inaugurated by Hon’ble Prime Minister of India, Shri Narendra Modi.

Some of the senior officials of Government of Uttarakhand also addressed the gathering at Ahmedabad included Mr. Utpal Kumar Singh, Chief Secretary, Ms. Manisha Panwar, Principal Secretary, Industries, Mr. D Senthil Pandian, Secretary, Food Processing, Dr. R Meenakshi Sundaram, Secretary, Animal Husbandry and Cooperative, Ms. Sowjanya, Director General/ Commissioner Industries, Mr. KS Panwar, Industrial Advisor to Chief Minister and Dr. Narendra Sigh Tomar, Technical Advisor to Chief Minister. In addition to the Government of Uttarakhand officials, various corporate leaders and experts that graced the occasion include Mr R S Sodhi, Managing Director, Amul India; Mr Gautam Adani, Chairman, Adani Group; Mr Jaimin Shah, Chairman, NASSCOM Domestic Market Council; Mr. Ankit Vyas, CEO, Oizom Instruments Pvt Ltd; Mr. Piruz Khambatta, Chairman, Rasna Pvt Ltd; Mr. Kailash Bahuhguna, CEO, Zydus Infrastructure; Mr. Shanay Shah, Director, Shalby Ltd; Mr. Joachim Rocha, Trade Commissioner, The Canadian Trade Commissioner Service; Mr Sandeep Agarwal, Head & Director, Gujarat Ambuja Exports Ltd; Mr Rajendra Shah, MD, Harsha Engineers Ltd; Mr Parag Desai, Executive Director, Gujarat Tea Processors & Packers Ltd and Mr. Aditya Panda,  Senior Manager, Coca Cola India Pvt Ltd among others.

The key objective of the roadshow was to share the investment opportunities in Uttarakhand and to seek active participation for ‘Destination Uttarakhand-Investors Summit 2018’. The roadshow received encouraging response and generated huge interest among the Gujarati business community. The delegation from Uttarakhand Government, highlighted the 12 focus sectors of the state, which include Food Processing, Horticulture & Floriculture, Herbal & Aromatic, Tourism & Hospitality, Wellness & AYUSH, Pharmaceuticals, Automobiles, Natural Fibers, IT, Renewable Energy, Biotechnology and Film Shooting.

Addressing the industry leaders at the roadshow, Ms. Manisha Panwar, Principal Secretary, Industries said, “It gives us immense pleasure to welcome the Gujarati business community into our state. With Destination Uttarakhand- Investors Summit 2018, our focus is to promote private sector investment especially for the 12 focus sectors. Our aim is to facilitate and handhold the investors including getting land and giving approvals in a time bound, transparent manner, making it easy for Gujarat’s business community to invest in Uttarakhand.”

Mr. D Senthil Pandian, Secretary, Food Processing, Government of Uttarakhand said, “Nestled in the foothills of Himalayas, the State is blessed with diverse agro climatic conditions from sub-tropical to temperate to alpine, where farming is mostly carried out organically. The State offers a number of Government policies, schemes and incentives to support food processing environment in Uttarakhand.  It also has robust infrastructure including 2 mega food parks, 4 industrial Clusters and 60 Farmer Producer Organisations (including NABARD promoted FPOs)”. The various investment opportunities highlighted included establishing units for Individually Quick Frozen (IQF) Fruits and Vegetables at Udham Singh Nagar & Haridwar and specialised snacks and baby food manufacturing units from Nutri cereals among others.

In order to attract investment into the various sectors of the state and thus contribute to the development of the economy as a whole, the Government of Uttarakhand has taken several policy initiatives. In addition to the State MSME Policy 2015 and Mega Industrial & Investment Policy 2015, dedicated sector policies have been drafted to boost the industrial climate and act as a facilitator of business. The online Single Window Clearance System facilitates speedy clearances as well as provides relevant information.

Uttarakhand offers a geographical advantage to budding entrepreneurs of Gujarat. The state`s industry can cater to the important consumer market of the National Capital region due to its physical proximity and seamless connectivity.  Important industrial areas of the state lie in the influence region of Amritsar Kolkata industrial corridor which will open up new opportunities. It also has a well-established industrial base of long-standing and reputed business houses, with a large number of ancillary units in Udham Singh Nagar, Haridwar, etc. Major players have set up their units in Uttarakhand due to congenial business environment with their state-of-the-art operating practices being fed into the local production environment.

About Destination Uttarakhand: Investors Summit 2018:

The Government of Uttarakhand is organizing ‘Uttarakhand Investors Summit 2018’ on October 7-8 2018 in coordination with all departments related to the 12 focus sectors identified by the state. The Investment Promotion and Facilitation Centre in the Directorate of Industries is working as the secretariat for the event. It will be a mega event, gathering investors, manufacturers, producers, policymakers, and organizations from the global business ecosystem. The summit would principally focus on 12 focus sectors, which include Food Processing, Horticulture & Floriculture, Herbal & Aromatic, Tourism & Hospitality, Wellness & AYUSH, Pharmaceuticals, Automobiles, Natural Fibres, IT, Renewable Energy, Biotechnology and Film Shooting, for expediting industrial development in the state. It will provide opportunities for investment and trade in these sectors for both domestic and international investors.

देहरादून 24 अगस्त, 2018(सू.ब्यूरो)-उत्तराखंड सरकार द्वारा देहरादून में 7-8 अक्टूबर 2018 को आयोजित होने वाले ‘डेस्टिनेशन उत्तराखंड: इन्वेस्टर्स समिट’ के सम्बन्ध में शुक्रवार को गुजरात के अहमदाबाद में एक रोड शो किया गया। यह उत्तराखंड में आयोजित होने वाला पहला निवेशक सम्मेलन होगा जिसका आयोजन देहरादून में किया जा रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी इस सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत इस रोड शो में सामिल हुए तथा उन्होंने गुजरात के प्रमुख व्यवसायियों से मुलाकात भी की और उन्हें 7-8 अक्टूबर को होने वाली उत्तराखंड इन्वेस्टर्स समिट में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री ने भगवान सोमनाथ की धरती के व्यवसायियों को बाबा केदारनाथ की धरती पर निवेश के लिए आमंत्रित करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड और गुजरात का आपस में विशेष रिश्ता है। गुजरात में बाबा सोमनाथ तो उत्तराखण्ड में बाबा केदारनाथ है। भगवान शिव गुजरात और उत्तराखण्ड को आपस में जोडते है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक भगवान सोमनाथ की धरती को 12वें ज्योतिर्लिंग बाबा केदारनाथ की धरती से साथ जोड़ना चाहते हैं। यह न सिर्फ व्यापारिक रिश्ता है, बल्कि सांस्कृतिक विरासतों को एकजुट करने की पहल भी है। यदि उत्तराखण्ड और गुजरात दोनो आपस में मिलकर कार्य करें तो दोनो प्रदेशों के साथ-साथ देश को भी लाभ होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड में संसाधनों की प्रचुरता और निवेशानुकूल माहौल में आप अवश्य निवेश के इच्छुक होंगे। उन्होंने कहा कि कृषि, बागवानी व संबंधित क्षेत्रों के अलावा आईटी सेक्टर, ऑटोमोबाइल, टेक्सटाइल, व मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में भी उत्तराखंड उनके लिये हॉट डेस्टिनेशन बन सकता है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि, ”हम ‘डेस्टिनेशन उत्तराखंड समिट 2018’ के लिए गुजराती व्यवसायी बिरादरी का साथ पाकर बेहद रोमांचित महसूस कर रहे हैं। इस नये राज्य में गुजराती व्यवसायी समाज के लिए खाद्य प्रसंस्करण, आॅटोमोबाइल्स, टेक्सटाइल्स और मैन्यूफैक्चरिंग के क्षेत्र में निवेश के बेशुमार अवसर उपलब्ध हैं। हम निवेशकों के लिए एक मंच मुहैया करना चाहते हैं जहाँ वे हमारे राज्य उत्तराखंड की संभावनाओं और व्यवसाय करने की सहजता को समझ सकें। उत्तराखंड संसाधनों से समृद्ध राज्य है। स्थापित गुजराती निवेशक समुदाय यहाँ से उत्तरी राज्यों में अपने कारोबार का विस्तार कर सकते हैं।“
  • उत्तराखण्ड और गुजरात का है विशेष रिश्ता। 
  • गुजरात में है बाबा सोमनाथ तो उत्तराखण्ड में है बाबा केदारनाथ। भगवान शिव जोड़ते है गुजरात और उत्तराखण्ड को। 
  • द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक भगवान सोमनाथ की धरती को 12वें ज्योतिर्लिंग बाबा केदारनाथ की धरती से साथ जोड़ना चाहते हैं हम। यह न सिर्फ व्यापारिक रिश्ता है, बल्कि सांस्कृतिक विरासतों को एकजुट करने की पहल भी है।
  • उत्तराखण्ड और गुजरात दोनो आपस में मिलकर कार्य करें तो दोनो प्रदेशों के साथ-साथ देश को भी लाभ होगा। 
  • मुख्यमंत्री ने किया गुजरात के व्यवसायियों को उत्तराखंड में निवेश के लिए आमंत्रित। 
 इस अवसर पर अहमदाबाद में उत्तराखंड सरकार के शीर्ष अधिकारियों ने भी निवेशकों को संबोधित किया, जिनमें राज्य के मुख्य सचिव, श्री उत्पल कुमार सिंह के अतिरिक्त उद्योग विभाग की प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पँवार और खाद्य प्रसंस्करण विभाग के सचिव श्री डी. संेथिल पांडियान, सचिव सहकारिता एवं पशुपालन श्री आर0 मीनाक्षी सुन्दरम तथा आयुक्त उद्योग श्रीमती सौजन्या प्रमुख है। रोड़ शो में उत्तराखंड के सरकारी अधिकारियों के अतिरिक्त मुख्यमंत्री के औद्योगिक सलाहकार श्री के0 एस0 पंवार, तकनीकी सलाहाकर डा0 नरेन्द्र सिंह तोमर तथा काॅर्पोरेट जगत के अनेक प्रतिनिधि और विशेषज्ञ भी मौजूद थे। इनमें श्री आर एस सोधी, प्रबंध निदेशक, अमूल इंडिया; श्री गौतम अडाणी, चेयरमैन, अदाणी ग्रुप; श्री जैमीन शाह, चेयरमैन, नैस्काॅम, डोमेस्टिक मार्केट काउंसिल; श्री अंकित व्यास, सीईओ, ओजाॅम इंस्ट्रूमेंट्स प्राइवेट लिमिटेड; श्री पायरज खंबाटा, चेयरमैन, रसना प्राइवेट लिमिटेड; श्री कैलाश बहुगुणा, सीईओ, जाइडस इंफ्रास्ट्रक्चर; श्री शनय शाह, डायरेक्टर, शैल्बी लिमिटेड; श्री जोआकिम रोचा, ट्रेड कमिश्नर, कैनेडियन ट्रेड कमिश्नर सर्विस; श्री संदीप अग्रवाल, हेड एवं डायरेक्टर, गुजरात अंबुजा एक्सपोर्ट्स लिमिटेड; श्री राजेन्द्र शाह, एमडी, हर्षा इंजीनियर्स लिमिटेड; श्री आदित्य पांडा, सीनियर मैनेजर, कोका कोला इंडिया प्राइवेट लिमिटेड; श्री पराग देसाई, कार्यकारी निदेशक, गुजरात टी प्रोसेसर्स एंड पैकर्स लिमिटेड आदि शामिल थे।
इस रोड शो का मुख्य उद्देश्य लोगों को उत्तराखंड में निवेश के अवसरों के बारे में जानकारी देना और ‘डेस्टिनेशन उत्तराखंड: इन्वेस्टर्स समिट 2018’ के लिए सक्रिय भागीदारी के लिए आमंत्रित करना था। रोडशो में उत्साहवर्द्धक समर्थन मिला। इसमें गुजराती व्यवसायी समाज ने जबर्दस्त दिलचस्पी दिखाई। उत्तराखंड सरकार के प्रतिनिधि मंडल ने निवेश के लिए राज्य के 12 प्रमुख फोकस क्षेत्रों को उजागर किया जिनमें खाद्य प्रसंस्करण, बागवानी एवं फूलों की खेती, हर्बल एवं एरोमैटिक, पर्यटन एवं आतिथ्य, वेलनेस एवं आयुष, फार्मा, आॅटोमोबाइल, प्राकृतिक रेशे, सूचना प्रौद्योगिकी, अक्षय ऊर्जा, जैव प्रौद्योगिकी एवं फिल्म शूटिंग सम्मिलित हैं।
 इस रोड शो के दौरान उद्योग जगत के लीडर्स को संबोधित करते हुए श्रीमती मनीषा पंवार, प्रमुख सचिव, इंडस्ट्रीज, उत्तराखंड सरकार श्रीमती मनीषा पंवार, प्रधान सचिव, इंडस्ट्रीज, उत्तराखंड सरकार ने कहा कि, ”हमें अपने सुन्दर राज्य में गुजरात के व्यावसायिक समुदाय को आमंत्रित करते हुए बेहद खुशी हो रही है। डेस्टिनेशन उत्तराखंड – इन्वेस्टर्स समिट 2018 के साथ हमारा फोकस निजी क्षेत्र के निवेश और विशेषकर 12 प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्रों को आगे बढ़ाने पर है। हमारा लक्ष्य व्यावहारिक तरीके से व्यावसायिक प्रक्रिया को इस तरह सरल बनाना है जिससे कि गुजराती व्यवसायी बिरादरी को उत्तराखंड में निवेश करने में सहजता का अहसास हो।“
श्री डी. सेंथिल पांडियान, सचिव, खाद्य प्रसंस्करण, उत्तराखंड सरकार ने कहा कि, ”हिमालय की तलहटी में बसा उत्तराखंड राज्य उप-उष्णकटिबंधीय से लेकर समशीतोष्ण और पर्वतीय तक विविध कृषि जलवायु से समृद्ध है। इस राज्य में अधिकतर किसान जैविक खेती करते हैं। उत्तराखंड सरकार ने खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के हित में अनेक नीतियाँ, योजनाएँ एवं प्रोत्साहन लागू किए हैं। राज्य में 2 मेगा फूड पार्क, 4 औद्योगिक क्लस्टर्स और 60 कृषक उत्पादक संगठन (नाबार्ड संरक्षित एफपीओ सहित) समेत सुदृढ़ मूलभूत सुविधाएँ मौजूद हैं।“ निवेश के लिए चिन्हित विविध अवसरों में उधम सिंह नगर और हरिद्वार में इंडिविजूअली क्विक फ्रोजन (आइ0क्यु0एफ0) फलों और सब्जियों के संयंत्रों, पौष्टिक अनाज से विशिष्ट स्नैक्स तथा बेबी फूड निर्माण संयंत्रों की स्थापना आदि को बढ़ावा दिया गया है।
राज्य के विभिन्न व्यावसायिक क्षेत्रों में निवेश आकर्षित करने तथा समावेशी आर्थिक विकास में तेजी लाने के लिए उत्तराखंड सरकार ने नीतिगत मामलों में अनेक कदम उठाए हैं। औद्योगिक वातावरण को बेहतर बनाने और कारोबार के सहायक के रूप में कार्य करने के लिए राज्य एमएसएमई नीति 2015 और मेगा औद्योगिक एवं निवेश नीति 2015 के अलावा व्यावसायिक क्षेत्रवार समर्पित नीतियाँ प्रारूपित की गई हैं। सिंगल विंडो सिस्टम से सभी महत्वपूर्ण सेक्टर्स में स्वीकृति की प्रक्रिया सरल हो गई है।
उत्तराखंड भौगोलिक दृष्टिकोण से भी गुजरात के उभरते उद्यमियों के लिए लाभकारी स्थिति मुहैया करता है। व्यापारिक रणनीति के लिहाज से अवस्थित और उत्तरी सीमा से सटा उत्तराखंड व्यापार और वाणिज्य के लिए सहज स्थान है। इस राज्य में कच्चे मालों का भंडार भरा है। नतीजतन, गुजरात के निवेशकों को यहाँ से उत्तरी राज्यों में अपने कारोबार का विस्तार करने में आसानी होगी। गुजरात के व्यसायियों की राज्य के उधम सिंह नगर में काफी संख्या में मौजूद अनुषंगी इकाइयों के साथ काफी पुराने और प्रतिष्ठित व्यावसायिक घरानों का एक सुस्थापित औद्योगिक आधार मौजूद है। प्रमुख कंपनियों ने उत्तराखंड के सौहार्दपूर्ण कारोबारी माहौल को देखते हुए यहाँ अपनी इकाइयाँ स्थापित की हैं और अपने-अपने अत्याधुनिक परिचालन पद्धतियों से स्थानीय उत्पादन माहौल में प्राण फूँक रहे हैं। इस राज्य में विभिन्न व्यावसायिक क्षेत्रों में बेशुमार अवसर मौजूद हैं और गुजराती व्यवसायी समाज इसका लाभ उठा सकता है।
डेस्टिनेशन उत्तराखंड: इन्वेस्टर्स समिट 2018
उत्तराखंड सरकार राज्य द्वारा चिन्हित 12 प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्रों से जुड़े सभी विभागों के समन्वय में 7-8 अक्टूबर, 2018 को ‘उत्तराखंड इन्वेस्टर्स समिट 2018’ का आयोजन कर रही है। उद्योग निदेशालय में स्थित निवेश संवर्धन एवं सुविधा केन्द्र आयोजन के सचिवालय के तौर पर काम कर रहा है। यह एक विशाल आयोजन होगा जिसमें वैश्विक व्यावसायिक पारितंत्र से निवेशकों, विनिर्माताओं, उत्पादकों, नीति निर्धारकों और संगठनों का समूह एकत्र होगा। इस समिट में, राज्य में औद्योगिक विकास की गति तेज करने के लिए मुख्य रूप से 12 फोकस सेक्टरों पर केंद्रण किया जायेगा जिनमें खाद्य प्रसंस्करण, बागवानी एवं फूलों की खेती, हर्बल एवं एरोमैटिक, पर्यटन एवं आतिथ्य, तंदुरुस्ती एवं आयुष, औषधि, आॅटोमोबाइल, कुदरती रेशे, सूचना प्रौद्योगिकी, अक्षय ऊर्जा, जैव प्रौद्योगिकी एवं फिल्म शूटिंग सम्मिलित हैं। इससे घरेलू और विदेशी दोनों तरह के निवेशकों को इन क्षेत्रों में निवेश एवं व्यापार के अवसर उपलब्ध होंगे।

LEAVE A REPLY