अतिक्रमण हटने के बाद शहर की सड़कों का सौन्दर्यीकरण प्राथमिकता के आधार पर-अपर मुख्य सचिव

0
3645
Reading Time: 1 minute
देहरादून 31 अगस्त, 2018(सू.ब्यूरो)-अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने बताया कि मा.न्यायालय के निर्देशों के क्रम में देहरादून शहर में मसूरी-देहरादून विकास प्राधिकरण, नगर निगम देहरादून एवं जिला प्रशासन देहरादून द्वारा जन सामान्य हेतु बनाये गये फुटपाथों, गलियों, सड़कों एवं अन्य स्थलों पर किये गये अनधिकृत निर्माणों एवं अवैध अतिक्रमणों में ध्वस्तीकरण, चिन्हांकन व सीलिंग का कार्य निरन्तर किया जा रहा है।
अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने बताया कि मा.न्यायालय के निर्देशानुसार शहर से अवैध अतिक्रमणों को हटाने का कार्य तीव्र गति से किया जा रहा है। उन्होंने टास्क फोर्स को निर्देश दिये है कि शहर से अवैध अतिक्रमण हटाने के कार्य में किसी भी प्रकार की ढ़िलाई न बरती जाए। श्री ओमप्रकाश ने कहा कि अवैध अतिक्रमण हटाने के कार्य में आम जन मानस का सहयोग निरन्तर शासन प्रशासन को मिल रहा है। उन्होंने आम-जनमानस से अपील की है कि यदि जाने-अनजाने में भूलवश किसी ने सरकारी भूमि पर अतिक्रमण किया है, तो वे स्वयं ही उन अतिक्रमणों को शीघ्रता से हटा दें ताकि किसी प्रकार की अप्रिय कार्यवाही न करनी पडे। श्री ओमप्रकाश ने दुबारा से अतिक्रमण करने वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसे लोगों के विरूद्ध एफ.आई.आर. दर्ज की जायेगी। उन्होंने कहा कि अवैध अतिक्रमण के संबंध में यदि कोई जानकारी देना चाहता है, तो अध्यक्ष अतिक्रमण हटाओ टास्क फोर्स को इसकी सूचना महिला औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, सर्वे चैक स्थित आई.आर.डी.टी. सभागार में दे सकते है।
श्री ओमप्रकाश ने बताया कि अवैध अतिक्रमण हटाने के अभियान में सार्वजनिक मार्गों से अवमुक्त करायी गयी भूमि का प्रयोग मार्ग की चैडाई बढ़ाने, फुटपाथ, नाली, यूटीलिटी डक्ट का निर्माण एवं आॅन रोड़ पार्किंग व वैंडर जोन आदि विकसित किये जाने हेतु किया जाना है। उन्होंने कहा कि सड़कों की चैड़ाई निर्धारित मापदण्डों के आधार पर ही होनी चाहिए।  श्री ओमप्रकाश ने बताया कि अतिक्रमण हटने के बाद शहर की सड़कों का सौन्दर्यीकरण प्राथमिकता के आधार पर किया जायेगा। उन्होंने निर्देश दिये कि सड़कों के सौन्दर्यीकरण के साथ-साथ प्राईवेट पार्किंग, वेन्डिंग जोन व बस स्टाॅप आदि का निर्माण किया जाएगा।
श्री ओमप्रकाश ने बताया कि आज शुक्रवार को इस अभियान के अन्तर्गत 161 अवैध अतिक्रमणों के चिन्हीकरण व 01 भवन के सीलिंग का कार्य किया गया। इस प्रकार का अब तक कुल 4526 अवैध अतिक्रमणों का ध्वस्तीकरण, 7982 अतिक्रमणों का चिन्हीकरण व 118 भवनों के सीलिंग का कार्य सम्पादित किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY